Measles becomes an imminent global threat due to the Covid pandemic Says WHO | WHO की चेतावनी, खसरा दुनिया के लिए खतरा, 2021 में 4 करोड़ बच्चों को नहीं लगी वैक्सीन

Posted by

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) और यूएस सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) ने बुधवार को कहा कि खसरा दुनिया के लिए बड़ा खतरा है.

WHO की चेतावनी, खसरा दुनिया के लिए खतरा, 2021 में 4 करोड़ बच्चों को नहीं लगी वैक्सीन

खसरा दुनिया के लिए खतरा

Image Credit source: IStock

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) और यूएस सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) ने बुधवार को कहा कि खसरा दुनिया के लिए बड़ा खतरा है. डब्ल्यूएचओ और सीडीएस ने कहा कि कोरोना महामारी के बाद से खसरा के टीकाकरण में काफी गिरावट आई है. इसके कारण पिछले साल चार करोड़ बच्चे खसरे की वैक्सीन लेने से चूक गए. दोनों संस्थाओं ने कहा कि इसके साथ ही इस बीमारी की निगरानी भी घटी है.

डब्ल्यूएचओ और सीडीसी ने एक संयुक्त रिपोर्ट में कहा, ‘अब दुनिया भर के विभिन्न क्षेत्रों में खसरे के फैलने का खतरा है क्योंकि कोरोना के कारण इसके टीकाकरण कवरेज में लगातार गिरावट आई है और बीमारी की निगरानी भी घटी है.’ विश्व स्वास्थ्य संगठ ने कहा कि खसरा सबसे संक्रामक मानव विषाणुओं में से एक है. इसे वैक्सीनेशन के जरिए लगभग पूरी तरह से रोका जा सकता है.

2021 में चार करोड़ बच्चों को नहीं लगी खसरे की वैक्सीन

डब्ल्यूएचओ ने कहा कि खसरे के प्रकोप को रोकने के लिए 95 फीसदी वैक्सीन कवरेज की आवश्यकता होती है. डब्ल्यूएचओ और सीडीसी ने एक संयुक्त रिपोर्ट के मुताबिक, कोरोना के कारण साल 2021 में चार करोड़ बच्चे खसरे की वैक्सीन लेने से चूक गए. रिपोर्ट के मुताबिक, दुनिया के सबसे संक्रामक बीमारी से लाखों बच्चे संक्रमित थे. पिछले साल 9 करोड़ बच्चे इस बीमारी से संक्रमित हुए थे. वहीं खसरे की वजह से 1,28,000 मौतें हुई.

खसरे की वैक्सीन मौत को रोकने में 97 फीसदी प्रभावी

डब्ल्यूएचओ और सीडीसी ने कहा कि खसरे से होने वाली 95 प्रतिशत से अधिक मौतें विकासशील देशों में होती हैं. अफ्रीका और एशिया में इस बीमारी से मरने वालों की संख्या अधिक होती हैं. खसरा का कोई खास इलाज नहीं है, लेकिन वैक्सीन की दो खुराक इस बीमारी को रोकने में सक्षम है. यह टीका मौत को रोकने में लगभग 97 प्रतिशत प्रभावी है.

जुलाई में संयुक्त राष्ट्र ने कहा था कि 2.5 करोड़ बच्चे डिप्थीरिया सहित कई अन्य बीमारियों के खिलाफ नियमित टीकाकरण से चूक गए क्योंकि कोरोना महामारी के कारण बड़े पैमाने पर नियमित स्वास्थ्य सेवाओं को बाधित किया गया या वैक्सीन को लेकर गलत सूचना फैलाया गया.

भारत में भी खसरा का कहर, मुंबई में अब तक 12 मौतें

मुंबई में खसरा से हड़कंप मचा हुआ है. यहां इस बीमारी से आठ महीने के एक बच्चे की मौत हो गई. इसके साथ ही इस बीमारी से मरने वाले बच्चों की संख्या 12 हो गई है. वहीं, अधिकारियों ने कहा कि मुंबई में खसरे के 13 नए मामले दर्ज किए गए. इसके साथ ही इस साल कुल संक्रमितों की संख्या 233 हो गई है. इसके अलावा झारखंड, गुजरात और केरल के तीन शहरों क्रमश: रांची, अहमदाबाद और मलप्पुरम में बच्चों में खसरे के मामलों की संख्या में वृद्धि देखी गई है. केंद्र सरकार ने इसके आकलन और प्रबंधन करने के लिए उच्चस्तरीय दलों को तैनात किया है.